Saturday, October 1, 2011

झुर्रियों का घर

DSC00418
बनाया था जिन्होंने आशियाना
इकठ्ठा  कर एक-एक तिनका
जोड़ कर एक-एक ईंट पसीने से
किया था कमरों को  तब्दील घर में,
उसकी दहलीज़ पर बैठे वो
आज बस ताकते है आसमान में
और झुर्रियों भरी दीवारों पर लगी
अब तक ताजी पुरानी तस्वीरों से
करते हैं सवाल-जवाब बाते करते हैं ,
धमनियाँ फड़क जाती  हैं अब भी
कभी तेज रहे खून के बहाव की याद में 
धुंधली हो चली आँखों के आँगन में
आशा की रोशनी  चमकती  अब भी
कि ऐसा ही नहीं रहेगा सूना ये घरौंदा
और अपने खून से पाले हुए सपने
कुछ पल वापस आकर सुनाएँगे लोरियाँ,
आशा की रोशनी चमकती अब भी
कि सारे काँटों को बीन कर
अपने अरमानों और दीवानगी से
जो सड़क बनाई जिस अगली पीढ़ी के लिए
उनमें मे से कोई तो आएगा
हाथ पकड़ पार कराने वही सड़क ,
हर नई झुर्री से वापस झाँकता
वही पुराना समय पुराना मंजर
जब वो होते थे माँ की गोद में
और बुढ़ाती आँखों में अजब कुतूहल
जानी-पहचानी चीजों को फिर जानने  का
और सदा जवान खत्म ना होता जज़्बा
काँपते लड़खड़ाते लम्हों को पूरा-पूरा  जीने का ...
...रजनीश (01.10.11)
( 1 अक्तूबर , अंतर्राष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर )

17 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

सबको सम्मान, अन्त तक।

रश्मि प्रभा... said...

samuchit samman sabka

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

BLOGPRAHARI said...

आपके विचार पढकर हार्दिक प्रसन्नता हुई. आपके द्वारा हिंदी को अंतरजाल पर समृद्ध करने में दिया जा रहा योगदान अमूल्य है. क्या आप ब्लॉगप्रहरी के नये स्वरूप से परिचित है.हिंदी ब्लॉगजगत से सेवार्थ हमने ब्लॉगप्रहरी के रूप में एक बेमिशाल एग्रीगेटर आपके सामने रखा है. यह एग्रीगेटर अपने पूर्वजों और वर्तमान में सक्रिय सभी साथी एग्रीगेटरों से कई गुणा सुविधाजनक और आकर्षक है. उदाहरण स्वरूप आप यह परिचय पन्ना देखें उदहारण हेतू पन्ना . क्या आपको इससे बेहतर परिचय पन्ना कोई अन्य सेवा देती है. शायद नहीं ! यह हम हिंदी ब्लोगरों के लिए गर्व की बात है.

इसे आप हिंदी ब्लॉगर को केंद्र में रखकर बनाया गया एक संपूर्ण एग्रीगेटर कह सकते हैं. मात्र एग्रीगेटर ही नहीं, यह आपके फेसबुक और ट्वीटर की चुनिन्दा सेवाओं को भी समेटे हुए है. हमारा मकसद इसे सर्वगुण संपन्न बनाना था. और सबसे अहम बात की आप यहाँ मित्र बनाने, चैट करने, ग्रुप निर्माण करने, आकर्षक प्रोफाइल पेज ( जो दावे के साथ, अंतरजाल पर आपके लिए सबसे आकर्षक और सुविधाजनक प्रोफाइल पन्ना है), प्राइवेट चैट, फौलोवर बनाने-बनने, पसंद-नापसंद..के अलावा अपने फेसबुक के खाते हो ब्लॉगप्रहरी से ही अपडेट करने की आश्चर्यजनक सुविधाएं पाते हैं. सबसे अहम बात , कि यह पूर्ण लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य करता है, जहाँ विशिष्ट कोई भी नहीं. :)

आपके ब्लॉग पर ब्लॉगप्रहरी का लोगो सक्रिय नहीं है. कृपया हमारी सेवाओं को अन्य हिंदी ब्लॉग पाठकों तक पहुँचाने में हमारी मदद करें. ब्लॉगप्रहरी का लोगो/विड्जेट आप इन पन्नों से प्राप्त करे सकते हैं.
लोगो के लिए डैशबोर्ड पर जायें.
आकर्षक विड्जेट के लिए यहाँ जायें.

रचना दीक्षित said...

यथास्थिति से रूबरू कराती शानदार प्रस्तुति और उतने ही सुंदर विचार. काश ऐसा हो जाय.

शुभकामनायें.

Dr Varsha Singh said...

बहुत अच्छी कामना - अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई तथा शुभकामनाएं !

Udan Tashtari said...

बहुत बढ़िया सुन्दर अभिव्यक्ति!!

रेखा said...

बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ..

Kunwar Kusumesh said...

बहुत खूब .

Arvind Mishra said...

ओह बेबसी !

अनामिका की सदायें ...... said...

zhurriyon wale ghar ki zhurriyan intzar me badhti hi jati hai. afsos.

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

भावपूर्ण मार्मिक प्रस्तुति ...
अपने बुजुर्गों का सम्मान करना हमारा धर्म है |

Anita said...

आपकी कविता पढकर कई झुर्री भरे चेहरे या आ गए जो आज भी इंतजार कर रहे हैं... जबकि वे जानते हैं कोई नहीं आएगा...काश!युवा अपने भविष्य के चेहरे को भी याद कर लें तो शायद इतने खुदगर्ज न हों..

सागर said...

behtreen prstuti...

Kailash C Sharma said...

बहुत भावपूर्ण मर्मस्पर्शी प्रस्तुति..

अनुपमा पाठक said...

एक दिन सबको जीवन के इस मोड़ से गुजरना है!
universal sentiment well expressed!!!

देवेन्द्र पाण्डेय said...

बेहतरीन...
इस विषय में अपनी एक कविता का लिंक दे रहा हूँ। मन हो तो पढ़ सकते हैं। इस कविता के भाव से जोड़ कर पढ़ेंगे तो आपको अच्छा लगेगा...
http://devendra-bechainaatma.blogspot.com/2009/11/blog-post_15.html

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....