Monday, November 7, 2011

शब्दों का कोलाज़-1

wordle1

आज एक साल का हो गया मेरा ब्लॉग ...
इस अवसर पर पेश है एक नई कविता ...
कविता  बनी है मेरी पुरानी कविताओं के शीर्षकों से ...
 आप इस ब्लॉग पर आए..हृदय से धन्यवाद ..... 
_____________________________________

अब क्या दूँ अपना परिचय
मैं हूँ मेरी कविता में
मेरी आवाज़ है मेरी कविता
मेरी कश्मकश का एक चित्र है
मेरे अनुभव हैं मेरा व्याकरण और शब्दकोश
लाइनों में साँस लेते एहसास
और कुछ लम्हे बन गए तवारीख़
बस खुद को ही लिखा हो ऐसा नहीं
जो थोड़ी बहुत कोशिश की
इस रिश्तों की दुनिया को समझने की
जो मुश्किलें और व्यथा देखता हूँ
उसे भी समेटा है  शब्दों में
बनाया है उनका पोर्ट्रेट
ज़िंदगी एक खेल है चाहत का
ज़िंदगी एक सपना है
ज़िंदगी का अफ़साना जब
कलम से चलकर पन्ने पर पहुंचा
तो पन्ने की छाती पर उभरे चंद शेर
कुछ प्रश्न लिए हुए सीने में
मैं जीता हूँ एक सड़क और सफर
मंजिल की ओर चलते
मिलता और खोता रहा  रास्ते का सच
कहीं कोई मिला  अपना सा
कभी हुआ दृष्टिभ्रम
कहीं हुई एक  बादल से मुलाक़ात
कभी रास्ते में मिल गया बसंत
सुनी गुफ़्तगू गुलमोहर और पलाश की
कभी सूरज की गर्मी में उठाई कलम
कभी भीगे सब पन्ने बेमौसम बरसात में
कभी अपनी आँखों से देखा
सपना एक जमीन का
लिखते लिखते
कभी महसूस किया
धरती का कंपन
कई बार हुई रात से बात
कभी कोशिश की पढ़ने की
समय की भाषा हस्तरेखा में
ढूंढा जब भविष्यफल
तो कविता बनी एक खोज-
हाथ की उस लकीर की
जो कर देती है सच एक सपना 
और जिसमें चाहत को मिलता है
एक खूबसूरत मुक़ाम
कभी वो लिखा
जो तुमने कहा था ...
कभी आया एक खालीपन
जड़त्व एक भावना शून्यता
सोचा लिखूँ तो आखिर क्यूँ
और पन्ने पर मिली एक अलिखित कविता
कही सपने की बात
कभी गाए खुशी के गीत
कई बार हुई तकलीफ़ क्यूंकि
कुछ एहसास ऐसे होते हैं
जिनकी बात ही पूरी नहीं होती कभी
कभी दिल किया
छोड़ सारी आस और  कर कैद अपने आंसू
जी लें  उन्मुक्तता से
थोड़ा सा रूमानी हुआ जाए
हों जाएँ कुछ हल्के -फुल्के से
आखिर कलम भी चाहती है बदलाव
अपरिवर्तन उदास कर देता है
खैर ,समय चलता रहा
और साथ में सफर भी
होली के रंग में भीगे
होली के बाद मिली 
दीपावाली की शुभकामनाएँ
जारी है सफर मिल रहे  हैं  दोस्त
बनते गए  नए-नए हमराज़
एक तस्वीर बन रही है
न थकती है कलम
न खत्म हुआ परिचय
कुछ बातें पुरानी
और नई कहानी
कुछ सदाबहार यादें
फ़िर एक कविता
फ़िर नया शीर्षक
बंद नहीं हुआ खेल साँप-सीढ़ी का  
पन्ने दर पन्ने लाइन दर लाइन
जारी है मेरा बयान
एक ही प्रार्थना
इस वृतांत में बस खुशबूदार
मुस्कुराते शब्द ही हों ....
...रजनीश ( 07.11.2011)

2011-10-19 20.09.53












आप इस ब्लॉग पर आए
यहाँ  अपना कुछ समय  गुजारा
मेरी कविताएं पढ़ी  ( हाँ ..चित्र भी मेरे अपने हैं !)
प्रेरणा दायक टिप्पणियाँ लिखीं...
मेरे लिए बहुत ही सुखद अनुभव है ये ..
इस  प्रेम और उत्साहवर्धन के लिए
आप सब का हृदय से आभारी हूँ
मेरा लिखना जारी है ...
इस ब्लॉग पर जरूर आएँ ..
आपका सदैव स्वागत है ...
धन्यवाद ! हार्दिक शुभकामनाएँ !!

37 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

पोस्ट के शीर्षकों से ही कविता बना डालना, यह भी खूब रही।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

शब्दों का कोलाज़ अच्छा लगा ..ब्लॉग के एक वर्ष पूरा होने की बधाई और शुभकामनायें

अनुपमा त्रिपाठी... said...

badhai aapko varshgaanth ke liye...aur itne sunder prastutikaran ke liye ...

sushma 'आहुति' said...

बहुत बधाई आपको..... सच में आपने अदभुत चित्रण प्रस्तुत किया.....बहुत बहुत ही सार्थक सफ़र रहा आपका.....

वन्दना said...

शब्दों का कोलाज़ अच्छा लगा ..ब्लॉग के एक वर्ष पूरा होने की बधाई और शुभकामनायें ।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत अच्छी लगी आपकी कविता सर!

ब्लॉग का एक वर्ष पूरा होने पर हार्दिक बधाई।

सादर

रश्मि प्रभा... said...

badhaai ho ... kavita to prakash bikher raha hai

मनोज कुमार said...

साल भर की इस यात्रा के लिए बधाई, अगली यात्रा के लिए शुभकामनाएं।

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

अभिनव प्रयोग से निकली एक बेहतरीन कविता ...बहुत बढ़िया
ब्लॉग के एक वर्ष पूरा होने की हार्दिक बधाई .....

Pallavi said...

एक वर्ष पूरा होने पर आपको शुभकामनयें कभी समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

डॉ. जेन्नी शबनम said...

shabdon, bhaav aur kavita ka kolaaj bahut achchha laga. blog kee pahli varshgaanth par badhai.

अनामिका की सदायें ...... said...

is anniversery ki badhayi. shabdo ka ye kolaaz acchha laga.

Babli said...

ब्लॉग के एक वर्ष पूरे होने पर आपको हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !
शब्दों का कोलाज शीर्षक बहुत अच्छा लगा! बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण कविता लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

amrendra "amar" said...

ब्लॉग के एक वर्ष पूरा होने की हार्दिक बधाई ..

दिगम्बर नासवा said...

वाह ... ऐसे ही एक नयी कविता का सृजन हो गया ... बहुत खूब .. एक वर्ष पूरा होने पर बधाई ...

Anita said...

वाह! कविताओं के शीर्षकों से बनी इस अनोखी काव्य रचना के लिये तथा एक वर्ष पूर्ण होने पर बधाई!

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

बहुत सुन्दर वाह!

डॉ.सोनरूपा विशाल said...

ब्लॉग परिवार की नयी सदस्य हूँ ,आज ही आप के ब्लॉग पर आई और आते ही पूरे ब्लॉग को एक सूत्र में पिरोया हुआ देखकर वो भी कविता के रूप में, जैसे आपकी सारी कविताओं से एक ही बार में परिचय हो गया हो !

बधाई !

Reena Maurya said...

bahut hi sundar kavita hai

mridula pradhan said...

shabdon ke moti se badi sunder mala guthi hai.......

अनुपमा पाठक said...

ब्लॉग के एक वर्ष पूरे होने पर आपको हार्दिक शुभकामनायें!

Kailash C Sharma said...

बहुत रोचक प्रस्तुति...ब्लॉग का एक वर्ष पूरा होने पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

sunder prayog ,accha laga.aap mey sambhavnaye hai,likhte jaiye.shubhkamnao sahit,
dr.bhoopendra
rewa mp

कविता रावत said...

blog ko ek varsh poora hone par sundar aur rochak prastuti pesh kee hai aapne.. bahut achha laga..
haardik shubhkamnayen!!

रेखा said...

बहुत -बहुत बधाई आपको ...

Jyoti Mishra said...

Congratulations !!
n I really loved wat u did with the titles of ur posts.

Simply awesome :)

PS: Been away from blogosphere in past few days, hope u doing fine !!

nishdil said...

Thank you very much for the good words you put in at nishdil.blogspot.com. शुभकामनाएँ!!!

Kunwar Kusumesh said...

ब्लॉग के एक वर्ष पूरा करने की हार्दिक बधाई.

Onkar said...

Nov 5 (7 days ago)

बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

हरकीरत ' हीर' said...

आपको blog के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष में हार्दिक शुभकामनाएं ......
शब्दों ka कोलाज तो अद्भुत है ....
ये अनूठा हुनर अच्छा लगा .....:))

रचना दीक्षित said...

बढ़िया प्रयोग.

ब्लॉग के प्रथम जन्मदिन पर बधाई.

JHAROKHA said...

sir
pahli baar aapke blog par aai hun par aapke shbdon ka kolaz padh kar aapki sabhi rachnao ki jankari bhi mil gai.samay milne par padhungi jarur.
aapki bahut bahut shubh kamnaye
poonam

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...






आदरणीय रजनीश जी
सस्नेहाभिवादन !
*****************************************************************
¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤
आपके ब्लॉग का एक वर्ष पूरा होने पर
हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !


¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤¤
*****************************************************************

क्षमा करें , विलंब से पता चला …

…और हां , कविताओं के शीर्षकों से बनी आपकी कविता कमाल की है … … … बधाई !

मंगलकामनाओं सहित…
- राजेन्द्र स्वर्णकार

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

एक कामयाब सालगिरह पर बधाईयाँ.इस कविता का प्रयोगवाद आपकी कलम के चमत्कारी रूप का दर्शन करा गया.

"पलाश" said...

एक वर्ष पूर्ण होने की हार्दिक बधाई , आप यूँ ही वर्षों वर्ष तक लिखते रहे ,
आज पहली बार आपके ब्लाग पर आना हुआ, और आकर आपकी रचना पढ कर अच्छा लगा ।

मनोज भारती said...

ब्लॉग का एक वर्ष पूर्ण करने पर हार्दिक शुभकामनाएं ....मेरे ब्लॉग पर पधारने के लिए धन्यवाद!!!

Tv100 said...

आपकी पोस्ट बेहद पसंद आई! इसलिए आपको बधाई और शुभकामनाएं!

आपका हमारे ब्लॉग
http://tv100news4u.blogspot.com/
पर हार्दिक स्वागत है!

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....