Thursday, June 2, 2011

हवा

DSCN3903
अभी कुछ पल ही बीते
धूप बिखेर रही थी अंगारे
जमीन  कर रही थी कोशिश
कहीं छूप जाने की
फिर अचानक
धूप में मिलने लगी धूल
हवा चलते चलते दौड़ने लगी
दौड़ते दौड़ते उड़ने लगी
बन गई भयंकर आँधी
और उड़ाने लगी सब कुछ
जो उसके रास्ते में आया
पहले झुके फिर टूट भी गए पेड़
उड़ गए घोंसले और उड़ गईं छतें आशियानों की
हवा भाग रही थी बदहवास
उसका आवेग उसका आवेश देख
मैं सकते में था
न ही थी उसकी कोई दिशा निर्धारित
लगा जैसे कोई अंतर्द्वंद
चल रहा था उसके अंदर
पहले कभी देखा नहीं था
हवा को इस तरह भागते बदहवास ,
इतनी शक्ति लगाते,
बिजली से  चुभा-चुभा कर 
बादलों को भी उसने नीचे लाकर पटक दिया
और जमीन को पूरा भिगो दिया
किया विध्वंस हर तरफ
मैं कहता रह गया उससे कि
खड़े रहने दो मुझे इस मैदान में
मुझे समझना है तुम्हारी इस हालात की वजह
पर उसने एक न सुनी
जब उखड़ने लगे मेरे पैर
तो उससे दूर हुआ
और घर की बालकनी से
देखने लगा  हवा का धूल ,धूप और 
पानी के साथ  तांडव
पर इस जद्दोजहद के बाद
इतना तो समझ पाया
कि हवा उद्वेलित है
रुष्ट भी है और आतंकित भी
इसीलिए रौद्र रूप धारण किया है
धूप, धूल और बादल भी उसके साथ हैं
इस मोर्चे में ,
उसने बताया  तो नहीं
पर मुझे हुआ ये महसूस कि
उसे इस बिगड़े हाल में
पहुंचाने वाले हम ही हैं  ...
...रजनीश (01.06.2011)

9 comments:

Sunil Kumar said...

आंधी पानी और वातावरण के बिम्ब लिए यथार्थ के धरातल पर लाती सुन्दर रचना ,आभार

sushma 'आहुति' said...

kya khub chitar hai bhut khub rachna hai...

रश्मि प्रभा... said...

soch ki ye udaan purwa se kam nahi

कुश्वंश said...

तिवारी जी अप के ब्लॉग पर आकर प्रशन्न हुए कविताये सार्थक है स्वयं-खिचित चित्रों के साथ बधाई

वन्दना said...

्सटीक चित्रांकन किया है।

Anita said...

हवा के दिल की बात को समझने का प्रयास करती प्रकृति के भीषण रूप को दिखाती प्रवाहमयी कविता पढ़कर आंधी का सा समां प्रकट हो गया...अति सुंदर !

वीना said...

प्रकृति का एक यह भी रूप है...
सुंदर रचना...

Richa P Madhwani said...

http://shayaridays.blogspot.com

Jyoti Mishra said...

beautiful depiction of wind.

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....