Saturday, June 18, 2011

बारिश

DSCN4511
धूप ने महीनों सुखाया था मिट्टी को
आखिरी बूंद तक निकाल ले गई थी
जली हुई जमीं की  राख़ उड़ती थी हवा में
छांव की ठंडक हवा संग बह गई थी

गरम थपेड़ों की मार ने
झुलसाया था दीवारों को
हर झरोखे में तड़पती
एक प्यास दिखने लगी थी

मिल गई थी तपिश
भीतर की जलन से
छू लेता था अगर कुछ
तो आग  लग जाती थी

फिर एक झरोखे से कूद कर
आई एक सोंधी खुश्बू
एक नमी का अहसास
पानी की एक बूंद मिट्टी से मिली थी

फिर, हर तरफ बूंदे ही बूंदे
बुझा रही थी जमीं की प्यास
पूरी ताकत और आवाज के साथ गिरती बूंदें
जमीं को तरबतर कर रहीं थीं

तैयार होकर आई थीं बूंदे
बादल और बिजली के साथ
बूंदे  मिट्टी में  बह रहीं थी कतार बांधे
एक बारिश मेरे भीतर हो रही थी
...रजनीश (18.06.2011)

11 comments:

रचना दीक्षित said...

फिर एक झरोखे से कूद कर
आई एक सोंधी खुश्बू
एक नमी का अहसास
पानी की एक बूंद मिट्टी से मिली थी

बारिश की पहली बूंदों का आनंद निराला है. सुदर भाव लिए हुए खूबसूरत कविता.

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बूंदे मिट्टी में बह रहीं थी कतार बांधे
एक बारिश मेरे भीतर हो रही थी

सुन्दर एहसास लिए अच्छी रचना

रश्मि प्रभा... said...

फिर एक झरोखे से कूद कर
आई एक सोंधी खुश्बू
एक नमी का अहसास
पानी की एक बूंद मिट्टी से मिली थी
....maine dekha use kudker aate

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (20-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

sushma 'आहुति' said...

एक बारिश मेरे भीतर हो रही थी...sunder bhaav aur khubsurat shabdo se saja diya apne...

वाणी गीत said...

बूंदे मिट्टी में बह रहीं थी कतार बांधे
एक बारिश मेरे भीतर हो रही थी...

मन ना भीगता तो तन का भीगना क्या होता ..
प्रकृति के साथ खूबसूरत भावनाएं जुडी तो सुहाने मौसम की प्यारी कविता फूट पड़ी ...
बहुत बढ़िया !

निवेदिता said...

मौसम के अनुकूल अच्छी कविता ......

Anita said...

बारिश की बूंद और मिट्टी का संबंध कितना अद्भुत है... सुंदर शब्दों के माध्यम से प्रकृति का चित्रण करती कविता !

विशाल said...

bahut khoob ,rajnish bhai.
bhigo gayee aapki rachna.

संजय @ मो सम कौन ? said...

कल ही अखबार में पढ़ रहा था कि बारिश का हिन्दी फ़िल्मों में कितना महत्व है, आज आप की बरसाती कविता - बहुत खूब।

Mrs. Asha Joglekar said...

बारिश का आनंद देती हुई सुन्दर कविता ।

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....