Wednesday, January 5, 2011

लकीर

DSC00253
कभी 
एक लकीर खींची थी
मैंने , जमीन पर /
आज कोशिश की
उसे मिटाने की/
आज लड़ा उस लकीर से /
अपनी जमीन पर गड्ढे
कर लिए मैंने/
मिट्टी निकाली, उस
गहराती लकीर पर डालने/
मिट्टी निकालते -निकालते...
गड्ढे  में ही फिसल गया /
अपने हाथ-पैर
ही तुड़वा बैठा !
और लकीर गहराती रही ...
ये लकीर  ऊंची दीवार लगती है ...
अब उस लकीर से घिरा, लहूलुहान ,
सोचता हूँ ...
आखिर , खींची ही क्यूँ
ये लकीर मैंने ,
क्यों बनाई ये सीमा  !!!
लकीरें खींचने की
ये लत ,
बहुत तकलीफ देती है,
हर बार दिल पर निशान पड़ते हैं /
पर  क्या करूँ ,
मजबूर हूँ...
....रजनीश (05.01.11)

No comments:

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....