Monday, July 11, 2011

सुबह की चाय

DSCN4544
हर रोज़ सुबह
दरवाजे पर संसार
पड़ा हुआ मिलता है
चंद पन्नों में
चाय की चुस्कियों में
घोलकर   कुछ लाइनें
पीने की आदत सी हो गई है
और साथ इस एहसास को जीने की
कि कुछ बदला नहीं
सब कुछ वैसा ही है
जैसा पिछली सुबह था
बासे पन्ने
होता वही है जो पहले हुआ था
संवाददाता बदलता  है
कल जो वहाँ हुआ था
आज यहाँ होता है
बस हैवानियत घर बदलती है
इन्सानियत एक कोना तलाशती है
कुछ पल ही लगते हैं 
इन बासे कसैले पन्नों को
रद्दी में तब्दील होने में
दुर्घटना दुष्प्रचार 
भ्रष्टाचार  व्यभिचार
कहीं आतंक कहीं आक्रोश
कहीं टूटा  सपना कहीं  बिछोह
थोड़ी खुशी ढेर सारा ग़म
कोई जलजला कहीं विद्रोह
खबरें रोज़ जनमती रोज़ मरती हैं
रहती हैं दफन इन पन्नों में
जब गठरी बड़ी हो जाती है
रद्दी वाले की हो जाती है
और हर बार टोकरी देख
सोचता हूँ क्या यही है संसार
जो है इन अखबारों में?
क्या करूँ जो इन पन्नों का
चेहरा बदल जाए
निकले इनमें से प्यार की महक
जिन्हें पढ़कर चेहरा खिल जाए
और सुबह सुबह
चाय की चुस्कियों  में
कुछ मजा आ जाए.... 
...रजनीश (11.07.2011)

25 comments:

रविकर said...

इस प्रस्तुति के लिए बहुत-बहुत बधाई ||

रश्मि प्रभा... said...

क्या करूँ जो इन पन्नों का
चेहरा बदल जाए
निकले इनमें से प्यार की महक
जिन्हें पढ़कर चेहरा खिल जाए
और सुबह सुबह
चाय की चुस्कियों में
कुछ मजा आ जाए....
... biscuit ke saath chay lijiye, akhbaar ke panne nahin badlenge

Chandra Bhushan Mishra 'Ghafil' said...

आपके साथ कल मंगलवार को सुबह की चाय का आनन्द लेंगे चर्चामंच पर वहां आइये और अपने विचार प्रस्तुत करिए इस लिंक पर- http://charchamanch.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आज आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
____________________________________

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

निकले इनमें से प्यार की महक
जिन्हें पढ़कर चेहरा खिल जाए
और सुबह सुबह
चाय की चुस्कियों में
कुछ मजा आ जाए....

बहुत अच्छी पंक्तियाँ हैं सर!
-------------------
कल 12/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बासी ख़बरें ताज़ा करके चाय की चुस्की के साथ पढ़ी जाती हैं .. अच्छी प्रस्तुति

Jyoti Mishra said...

चाय की चुस्कियों में
कुछ मजा आ जाए...

I really hope that sometime in future we see this day

Anita said...

बहुत सुंदर कविता ! इन पन्नों का चेहरा तो बदलने से रहा हाँ आप सुबह-सुबह कागज के अखबार की जगह परमात्मा का जीता जागता, प्रकृति का अखबार पढ़िये हर रोज सूरज कुछ और ही ढंग से निकलता है... हर सुबह हवा किन्हीं और ही फूलों की गंध लाती है...

वन्दना said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

nilesh mathur said...

बहुत ही सुन्दर, बेहतरीन अभिव्यक्ति!

nilesh mathur said...

बहुत ही सुन्दर, बेहतरीन अभिव्यक्ति!

अनुपमा त्रिपाठी... said...

निकले इनमें से प्यार की महक
जिन्हें पढ़कर चेहरा खिल जाए
और सुबह सुबह
चाय की चुस्कियों में
कुछ मजा आ जाए....

achchhi asha hai ...
sunder rachna .

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

बेहतरीन कविता ।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') said...

सुबह की चाय का आनंद ही कुछ और है।

------
TOP HINDI BLOGS !

वाणी गीत said...

सुबह सुबह चाय को बेस्वाद होने से बचाने के लिए सबसे पहले सम्पादकीय पृष्ठ पढ़ें ...
बाकी ख़बरें तो अखबार और टीवी ,दोनों ही मूड बिगडती हैं ...काश की हम इनको बदल सकते !

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) said...

वो सुबह कभी तो आयेगी.......

prerna argal said...

wah chaye ke pyaale ke saath paper ka kya taalmail bithayaa hai.sach hai chaye se muh to meetha ho jaataa hai per akhwaar ki khabron se dil kaselaa ho jaata hai.saarthak rachanaa.badhaai sweekaren.

Dr.Nidhi Tandon said...

सुबह की चाय का मज़ा वो भी अखबार के साथ ..वाह!...सुन्दर प्रस्तुति

mahendra srivastava said...

बहुत सुंदर रचना. वाह

Dr (Miss) Sharad Singh said...

कुछ पल ही लगते हैं
इन बासे कसैले पन्नों को
रद्दी में तब्दील होने में
दुर्घटना दुष्प्रचार
भ्रष्टाचार व्यभिचार
कहीं आतंक कहीं आक्रोश
कहीं टूटा सपना कहीं बिछोह
थोड़ी खुशी ढेर सारा ग़म
कोई जलजला कहीं विद्रोह
खबरें रोज़ जनमती रोज़ मरती हैं


यथार्थ के धरातल पर रची गयी एक सार्थक कविता...

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

'बस हैवानियत घर बदलती है
इंसानियत एक कोना तलाशती है '
.................वाह रजनीश भाई , इन्ही दो पंक्तियों में पूरे वर्तमान को समाहित कर दिया

Shalini Pandey said...

बहुत सही फरमाया आपने वही बासी ख़बरें नये रूप-रंग में

Deepak Saini said...

यथार्थ से रूबरू कृति बेहतरीन रचना
बधाई स्वीकार करे

Sunil Kumar said...

सुबह की चाय की मिठास अख़बार कड़वी के देता है , अच्छी रचना बधाई

दिगम्बर नासवा said...

बासी खबर और ताज़ा चाय ... वाह ...

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....