Monday, December 6, 2010

चाहत

DSCN1435
सोचता हूँ,
क्यों चाहूँ तुम्हें,
आखिर क्यों ?
चाहत , ये क्या है ?
पूछा जिंदगी से ...
तुझे कुछ पता है ?
021209 204




हँस के कहा उसने,
इसी बात से परेशा है ? 
बस इन चाहत के फूलों को हटा दे,
और इन फूलों की बगिया को मिटा दे ...



021209 136उखाड़ फेंका मैंने उन्हे
और ज़िंदगी को निहारा
पर उस जगह कुछ और ही समा था
खाली जमीन और खुला आसमाँ था ...
बस कुछ टुकड़े जिंदगी के बिखरे हुए थे....
टूटी डालों और पत्तों संग जमीं पर पड़े थे


021209 015



उखड़ती साँसों से उसकी आवाज आई ,
हँसते हुए अपनी दास्तां सुनाई ...
बिखरी हूँ इनमे मैं कैसे दिखूंगी
मैं जन्मी थी इनमे और इन संग मरूँगी ...
.....रजनीश

No comments:

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....