Wednesday, December 15, 2010

एहसास


जिसके इंतजार में
मरते हैं अनगिनत बरस ,

उन कुछ पलों में
गुजर जाती है,
एक पूरी जिंदगी ।

और फिर
रह जाते है
एहसास
सँजोकर रखने ,

बटोरना हो,
तो ढूँढना पड़ता है इन्हें
और  थामना होता है कसकर
नहीं तो,
चंचल होते हैं  -
फिसल जाते हैं ।

ये नहीं होते विलीन
पाँच तत्वों में ,
और रह जाते हैं
कागज पर खिंची लाइन में  ,
छत की मुंडेर पर ,
नहीं तो फिर
डोर पर टंगे
धूप सेंकते
................................रजनीश ( 14.12.2010)

No comments:

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....