Sunday, February 20, 2011

दुनिया

DSC00418
जहां रहता हूँ  मैं, है वो  इक दुनिया,
जहां घर तुम्हारा  , वो भी इक दुनिया...

देखा था जिसे ख्वाब में ,  वो इक दुनिया,
हक़ीक़त में जो मिली ,  वो भी इक दुनिया...

था छोड़ा कल जिसे,  वो इक दुनिया,
कल मिलूँगा जहां तुमसे,  वो भी इक दुनिया...

बाहर  मिली जो मुझसे,  वो इक दुनिया,
ज़िंदा जो मेरे भीतर , वो भी इक दुनिया...

है तेरी और  मेरी, साझा वो इक दुनिया,
है ना तेरी  और ना मेरी ,  भी इक दुनिया !

तेरी दुनिया के अंदर मेरी, वो  इक दुनिया,
मेरी दुनिया के अंदर  तेरी, भी इक दुनिया...

जो मेरे कदमों तले कुचली, वो थी इक दुनिया,
जिसे  हाथों में है सम्हाला , ये भी इक दुनिया ...
.....रजनीश (20.02.2011)

8 comments:

रचना दीक्षित said...

जैसी भी हमें तो बहुत भाती है ये दुनिया.

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (21-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

Kailash C Sharma said...

अलग अलग रंगों में, फिर भी सुन्दर है ये दुनियाँ..बहुत सुन्दर प्रस्तुति

Patali-The-Village said...

सुन्दर है ये दुनियाँ अलग अलग रंगों में| बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

रंग बिरंगी है ये दुनिया

ZEAL said...

इस रंग बिरंगी दुनिया के विभिन्न पहलुओं पर बहुत ख़ूबसूरती से प्रकाश डाला है आपने ।
बधाई ।

Er. सत्यम शिवम said...

सच में ये दुनिया बहुत ही प्यारी है,और आपकी कविता उतनी ही न्यारी है।

*गद्य-सर्जना*:-“तुम्हारे वो गीत याद है मुझे”

रंजना said...

सच है...कई रंगों में रंगी है एक दुनियां में कई कई दुनिया.....

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....