Thursday, November 18, 2010

कविता

कविता,
एक मुकाम है
दिल के जज़्बातों का
जब उन्हें रास्ता मिलता है तो
चलकर कलम पर
आ जाते हैं
और बस जाते हैं
कागज की लाइनों में,
सोए रहते हैं,सांस लेते ,
कहीं बेहोश ,मरे हुए से,
कभी अंगड़ाई लेते, उछलते,
लुकते-छिपते,
कभी लाइनों से झाँकते ....
कविता , जज़्बातों की बस्ती है ....
देख सकते हो उन्हें बस्ती में ,
महसूस कर सकते हो...
उधर से गुजरो
तो जैसे जिंदगी मिलती है
उन्हें ,
और चल पड़ते हैं लाइनों से दिल की ओर,
और शायद एक और कविता
जन्म लेती है......

....रजनीश

1 comment:

rajneesh said...

wrote it some 20 yrs ago !! have corrected / edited a bit today and posted for you..

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....