Saturday, May 14, 2011

मुस्कुराहट

DSCN1585
मैंने कहा  आपसे जनाब
थोड़ा तो मुस्कुराइए !

आप कहते हैं-
कल ही तो मुस्कुराहट  गिरवी
रख  चूल्हा जलाया है
कहीं और चले जाइए...

मैंने कहा-
मुस्कान कोई बैंक के लॉकर
में रखी चीज है
या कोई मेहनत से मिलती है
ये तो चंद मासपेशियों का खेल है
बस चेहरे पे खिलती है...

आप कहते है-
अब आपको क्या बताएं ?
हँसते थे हम भी कभी
नकली हंसी कैसे उगाएँ ?
अजी अब कैसे समझाएँ
टूटे हैं अंदर से कैसे मुस्कुराएँ ?

मैंने कहा ,जनाब !
सीधा सा है हिसाब !
रोने को बना लिया  आदत है
मत भूलिए तंदुरुस्ती नियामत है
दुनिया भर का दर्द
भीतर की हंसी रोक नहीं सकता
और जो एक बार हंसा
वो फिर रो नहीं सकता...

हँसोगे तो हंसाओगे
गर रोये तो रुलाओगे,
कुछ समझ नहीं आता
तो अपनी हालत पे हंसो
और हंसी तो समझो फंसी
तुम हँसोगे तो ज़िंदगी हँसेगी,
कल तक जो दूर  जा रही थी
वो ज़िंदगी तुम्हें बाहों मे मिलेगी ...
...रजनीश (12.05.11)

8 comments:

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

तुम हँसोगे तो ज़िंदगी हँसेगी,
कल तक जो दूर जा रही थी
वो ज़िंदगी तुम्हें बाहों मे मिलेगी ...

सही कहा सर!जीवन में मुस्कराहट बहुत ज़रूरी है.

सादर

वन्दना said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (16-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

mridula pradhan said...

bahut achchi.

Anita said...

हंसो और हंसाओ, मत फंसो और मत फंसाओ !

रचना दीक्षित said...

हँसने के बाद का रोना और रोने के बाद हसना.

एह कविता तो हंसी का खजाना समेटे है. बहुत सुंदर.

रश्मि प्रभा... said...

कल ही तो मुस्कुराहट गिरवी
रख चूल्हा जलाया है
कहीं और चले जाइए...
nihshabd

देवेन्द्र पाण्डेय said...

बहुत खूब।

kanu..... said...

me bas muskurakar is rachna ka swagat karna chahiti hu...

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....