Friday, May 27, 2011

लार्जर देन लाईफ

DSCN3279
बैट मैन,
सुपर मैन,
स्पाइडर मैन,
बच्चे-बड़े सभी हैं फैन ...

बचपन में ही इनसे
मिल जाती है ये सीख
कि बुराई को ख़त्म करना
आम आदमी के बस
की बात नहीं,
क्यूंकि कर सके
मुक़ाबला पहाड़ जैसी
हैवानियत का ,
खत्म कर दे उसे,
आम आदमी में
इतनी ताकत नहीं...

कुछ कौतूहल , कुछ रोमांच
और सपने इंसानियत के
देख सकें दिन में नैन
इसीलिए बनाए हमने 
बैट मैन,
सुपर मैन,
स्पाइडर मैन...
...रजनीश (15.05.11)

2 comments:

रश्मि प्रभा... said...

बुराई को ख़त्म करना
आम आदमी के बस
की बात नहीं,
क्यूंकि कर सके
मुक़ाबला पहाड़ जैसी
हैवानियत का ,
खत्म कर दे उसे,
आम आदमी में
इतनी ताकत नहीं...
mann ki takat ho to koi bhi ho sakta hai superman bhagat, gandhi ... ki tarah , border per khade 22 varshiye fauji ki tarah

रश्मि प्रभा... said...

http://urvija.parikalpnaa.com/2011/05/blog-post_27.html?spref=fb

Recent Posts

पुनः पधारकर अनुगृहीत करें .....